CBSE Result 2021 Date Kab Aayega News सीबीएसई का स्कूलों को निर्देश, इसी माह जारी होगा 10वी -12वी का रिजल्ट 22 तक तैयार करें रिजल्ट

सीबीएसई का स्कूलों को निर्देश, इसी माह जारी होगा 10वी -12वी का रिजल्ट

केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड 12वी का रिजल्ट 31 जुलाई तक मॉडरेशन पूरा करने और रिजल्ट तैयारी करने के निर्देश दिए गए है।  कहा गया है कि  विधार्थियों के 11वीं व 12वीं के अंको का मॉडरेशन व रिजल्ट अपडेट करने के लिए 16 जुलाई से ऑनलाइन पोर्टल काम करना शुरू देगा।  निर्धारित समय सिमा के भीतर मॉडरेशन व रिजल्ट तैयारी करने में विफल रहने वाले स्कूलों का रिजल्ट 31 जुलाई के बाद अलग से जारी किया जाएगा।

सीबीएसई ने अंको के मॉडरेशन की सुविधा के लिए एक सॉफ्टवेयर तैयार किया है।  इसमें दो खंड है, पहला विषय आधारित मॉडरेशन व दूसरा संपूर्ण मॉडरेशन। स्कूलों को कहा गया है कि दिशा – निर्देशों के मुताबिक ही मॉडरेशन।  किया जाए।  स्कूल यह सुनिश्चत करें कि मॉडरेशन पूरा करने के बाद सबमिशन का बटन तभी दबाया जाए जब इस बात की पुष्टि हो जाए की स्कूल की और से किया गया मॉडरेशन सौ फीसदी सही है। 

प्रदर्शन सुधारने के लिए मनमानी कर रहे स्कूल

 सीबीएसई को 12वीं से पहले 10वीं का रिजल्ट जारी करना है।  इसके लिए अंको की गणना जारी है सीबीएसई के नोटिस में आया है की कुछ स्कूलो ने अपना 10वीं का प्रदर्शन सुधारने के लिए संदर्भ रेंज का अपने तरिके से प्रयोग कर रहे है इस कारण स्कूलों ने कई बच्चों को अपने तरिके से अंक दे दिए है। इसे उन्होंने बोर्ड को जमा भी करा दिया।  जब बोर्ड के नोटिस में मनमाने तरिके से अंक देने की बात सामने आई तो उन्होंने दुबारा से उन्हें  रिजल्ट तैयार करने के लिए दो दिन का समय और दिया है।  कहा है की यह निष्पक्ष तरिके से करें

समय सीमा में मॉडरेशन नहीं करने वाले स्कूलों के नतीजे 31 जुलाई के बाद जारी होंगे

निष्पक्ष करें काम सीबीएसई ने निर्देश दिए है की मॉडरेशन करना बड़ी जिम्मेदारी है।  इस बात का ध्यान दिया जाए कि मॉडरेशन के बाद किसी भी विधार्थी को किसी भी प्रकार का लाभ या नुकसान ना हो। स्कूलों को वर्ष 2020 -21 के अंको को मॉडरेट करने के लिए पिछले तीन वर्ष के बच्चे के प्रदर्शन को संदर्भ के रूप में लिया जाना है।

प्राइवेट परीक्षार्थियों ने भी की इम्तिहान से राहत की मांग

सीबीएसई के प्राइवेट परीक्षार्थियों ने सरकार को ज्ञापन भेजकर इम्तिहान से राहत दिलाने की मांग रखी है। केंद्रीय शिक्षा मंत्री दर्मेंद्र प्रधान और सीबीएसई को भेजे ज्ञापन में उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री ने बोर्ड परीक्षा न कराने का फैसला लिया है तो यह राहत उन्हें क्यों नहीं मिल रही है।  इंडिया वाइड पेरेंट्स एसोसिएशन, सुप्रीम कोर्ट में छात्रों की ओर से याचिका दायर करने वाली एडवोकेट अनुभा सहाय श्रीवास्तव समेत सीबीएसई के प्राइवेट परीक्षा देने वाले छात्रों ने पत्र में कहा है की सरकार छात्रों को शिक्षा से जोड़ने की बात करती करती है

Leave a Reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *